अब इस व्यवस्था ने बिहार में अपराधियों को पकड़ना शुरू कर दिया,

बिहार अपराधियों पकड़ना शुरू

बिहार अपराधियों पकड़ना शुरू

बिहार अपराधियों पकड़ना शुरू लंबे इंतजार के बाद आखिरकार बिहार के पुलिस स्टेशनों पर क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क (CCTNS) पर काम शुरू हो गया है। वर्तमान में, पटना और नालंदा में 20 स्टेशनों को प्रमाण के रूप में परोसा जा रहा है। 894 राज्य पुलिस स्टेशनों में जल्द ही काम शुरू होगा। एक बार पूरी तरह से चालू हो जाने के बाद इन पुलिस स्टेशनों पर सीसीटीएनएस परियोजना का उद्घाटन किया जाएगा। वर्तमान में राज्य में 1065 पुलिस स्टेशन हैं। दूसरे चरण के सभी शेष पुलिस स्टेशनों को इससे जोड़ा जाएगा।

पिछले साल सितंबर में समझौता हुआ था।

894 राज्य पुलिस स्टेशनों और 432 पुलिस अधिकारियों के कार्यालयों को सीसीटीएनएस से जोड़ने के लिए पिछले साल सितंबर में एक समझौता किया गया था। TCS कंपनी को यह कार्य सौंपा गया है। अक्टूबर में काम पूरा होना था। पहले चरण में शामिल 20 पुलिस स्टेशनों और कार्यालयों को सीसीटीएनएस से जोड़ने का काम अब ठोस रूप ले रहा है। दिसंबर तक सभी पुलिस स्टेशन आपस में जुड़ जाएंगे। इसमें पटना में 13 स्टेशन और नालंदा में 7 पुलिस स्टेशन शामिल हैं। वर्तमान में इन पुलिस स्टेशनों पर सीसीटीएनएस की कोशिश की जा रही है।

ये सीसीटीएनएस के फायदे होंगे

सीसीटीएनएस योजना के कई फायदे होंगे। इस योजना के लागू होने के बाद, सभी बिहार पुलिस स्टेशन जो सीसीटीएनएस नेटवर्क से जुड़ेंगे, देश के अन्य पुलिस स्टेशनों से जुड़ जाएंगे। दूसरे पुलिस स्टेशन की पुलिस अन्य एफआईआर डेटा देख सकेगी। सीसीटीएनएस परियोजना एकीकृत आपराधिक न्याय प्रणाली (ICJS) का हिस्सा है। इसके तहत अदालतों, पुलिस स्टेशनों, अभियोजकों और फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशालाओं को जोड़ा जाएगा। इससे थाना भी सीधे जुड़ जाएगा। एफआईआर से लेकर आदेश तक ऑनलाइन होंगे।

माता तुलसी कौन थी?

सीसीटीएनएस परियोजना के तहत, आम लोगों को सात सहायता सुविधाएं मिलेंगी। लोग पुलिस स्टेशनों पर ऑनलाइन शिकायत कर सकते हैं। इसके अलावा, वे चरित्र का सत्यापन, आवश्यक पुलिस परमिट, खोए हुए सामानों की जानकारी और चोरी हुए वाहनों की जानकारी भी प्राप्त करेंगे। इसके माध्यम से लापता व्यक्तियों और अज्ञात निकायों की जानकारी भी प्राप्त की जा सकती है। घरेलू पासपोर्ट सहायता और पसंदीदा नागरिकों को सत्यापित करने के लिए फॉर्म भरे जा सकते हैं।

गृह मंत्रालय राज्यों को सतर्क रहने के लिए कहा है, अतिरिक्त बल फैसले के लिए अयोध्या भेजे गए

0Shares

Author: bhojpurtoday1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *