बारिश से कनकनी बढ़ जाती है, अब राहत की कोई उम्मीद नहीं है

बारिश कनकनी बढ़ जाती

बारिश कनकनी बढ़ जाती

बारिश कनकनी बढ़ जाती पटना सहित राज्य के कई हिस्सों में बुधवार रात से देर रात तक रुक-रुक कर बारिश होती रही, जिससे तापमान में गिरावट दर्ज की गई। वहीं, गुरुवार को लगभग पूरे राज्य में हल्की बारिश या बूंदाबांदी होने का अनुमान है। मौसम विभाग ने पहले ही इसकी भविष्यवाणी कर दी थी। पश्चिमी विक्षोभ के कारण हिमालय क्षेत्र से बर्फीली हवा का असर बिहार में भी देखा जा रहा है।

ठंड 17 जनवरी तक पीछा करेगी

हालांकि बारिश के कारण कल रात से कोहरा कम हो गया है, लेकिन न्यूनतम तापमान में गिरावट के कारण ठंड फिर से बढ़ने लगी है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार, 17 जनवरी तक मौसम विभाग ने न्यूनतम तापमान में बड़ी वृद्धि की उम्मीद नहीं की है, क्योंकि ठंड जारी रहेगी।

गुरुवार से शुक्रवार तक तूफान और बारिश का अलर्ट

मौसम विभाग ने पटना सहित कई जिलों में आंधी, तूफान और गरज के साथ छींटे पड़ने का अनुमान जताया है। पटना, नालंदा, वैशाली, समस्तीपुर, बेगूसराय, दरभंगा, पूर्वी चंपारण, गया, नवादा, अरवल, जहानाबाद, शेखपुरा, लखीसराय, खगड़िया, मुंगेर, सीतामढ़ी, शिवहर और मधुबनी के लिए अलर्ट जारी किया गया है।

इसके साथ ही शुक्रवार को भी आसमान में बादल छाए रहेंगे और शनिवार से मौसम साफ होने की संभावना है। इसके बाद धूप निकलेगी। लेकिन, एक बार आसमान साफ ​​होने के बाद न्यूनतम तापमान गिर जाएगा और रात में ठंड बढ़ जाएगी।

पटना का अधिकतम तापमान बुधवार को 20 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक दर्ज किया गया। राज्य के मुख्य शहरों में गया, भागलपुर और पूर्णिया का अधिकतम तापमान सामान्य स्तर पर दर्ज किया गया।

पटना का न्यूनतम तापमान 9.8 डिग्री और अधिकतम 20 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। गया का न्यूनतम तापमान 9.2 डिग्री और अधिकतम 23.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। भागलपुर का न्यूनतम तापमान 9.6 डिग्री और अधिकतम तापमान 22.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पूर्णिया का न्यूनतम तापमान 8.5 डिग्री और अधिकतम तापमान 22.5 डिग्री सेल्सियस रहा।

भारत में अमेरिकी राजदूत केनेथ आई जस्टर 16 अन्य देशों के दूतों के साथ गुरुवार को जम्मू और कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर श्रीनगर पहुंचे।

0Shares

Author: bhojpurtoday1

1 thought on “बारिश से कनकनी बढ़ जाती है, अब राहत की कोई उम्मीद नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *