कोरोना वायरस के कारण देश में 21 दिन की नाकेबंदी, जानें क्या खुलेगा, क्या रहेगा बंद

कोरोना वायरस कारण नाकेबंदी

कोरोना वायरस कारण नाकेबंदी

कोरोना वायरस कारण नाकेबंदी कोरोनावायरस के लगातार मामलों के बीच राष्ट्रीय नाकाबंदी की गई है। अब तक देश में 500 से अधिक मुकुट मामले सामने आ चुके हैं और 11 लोगों की मौत हो चुकी है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में मंगलवार रात 8 बजे बंद करने की घोषणा की। उन्होंने बंद को कर्फ्यू बताया। प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों से अपील की और कहा कि आप जहां भी हों, वहीं रहें। यह ताला आपके भविष्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। प्रधानमंत्री ने लोगों को हर कीमत पर घर नहीं छोड़ने की सलाह दी है। अपने भाषण के दौरान, उन्होंने कहा कि भारत के लोगों ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू प्रस्ताव को लागू करने में योगदान दिया।

तीन सप्ताह की इस राष्ट्रीय नाकेबंदी के दौरान कई आवश्यक सेवाओं को छूट जारी रहेगी। इस समय के दौरान, सब कुछ बंद रहेगा, लेकिन कुछ चीजों में ढील दी गई है, जिसका सीधा संबंध आम जनता की जरूरतों से है। बंद के दौरान राशन, किराना, फल, सब्जी, दूध, मछली, मांस, और चारा भंडार खुले रहेंगे।

सभी परिवहन सेवाओं (सड़क, रेल और वायु) को बंद करने के दौरान निलंबित कर दिया जाएगा।
नियमों का पालन करने के लिए जिला मजिस्ट्रेट द्वारा कार्यकारी मजिस्ट्रेट प्रकाशित किया जाएगा।
उचित मूल्य और भोजन, किराना, फल, सब्जी, डेयरी, मांस, मछली, पालतू पशु खाद्य भंडार खुलेंगे।
रक्षा सुविधाएं, एलपीजी, गैसोलीन पंप, आपदा प्रबंधन, डाकघर, एनआईसी और मौसम संबंधी एजेंसियां ​​काम करती रहेंगी।
ऊर्जा, जल और स्वच्छता से संबंधित संस्थान, नगर निगम भी काम करना जारी रखेंगे।
बैंक, बीमा कार्यालय और एटीएम पहले की तरह चलते रहेंगे।

क्या इसे बंद किया जाएगा?

सभी एक सप्ताह के कारखानों, कार्यशालाओं, कार्यालयों, गोदामों, बाजारों को बंद कर दिया जाएगा। केंद्र और राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों के सभी कार्यालय, स्वायत्त कार्यालय और निगम बंद रहेंगे।

जानिए किसकी होगी ड्यूटी, पुलिस, चिकित्सा सेवाओं से जुड़े लोग, मीडियाकर्मी और मैला ढोने वाले अपनी सेवाएं देते रहेंगे।

आगे जानिए पीएम मोदी ने अपने संबोधन में क्या कहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनोवायरस पर राष्ट्र के अपने दूसरे भाषण में कहा कि सभी तैयारियों और प्रयासों के बावजूद चुनौती बढ़ रही है। सभी देशों के दो महीने के अध्ययन से निष्कर्ष निकलता है कि इस वैश्विक महामारी के खिलाफ प्रभावी लड़ाई का एकमात्र विकल्प सामाजिक भेद है। अपने घर में बंद रहो। कोरोना से बचने का कोई और तरीका नहीं है। यदि मुकुट फैलाना बंद कर देता है, तो संक्रमण चक्र को तोड़ना होगा।

भारत में ही नहीं, कोरोनोवायरस दुनिया भर में कहर बरपा रहा है। संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है। डब्ल्यूएचओ के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, 372,000 लोग अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। इसके अलावा, दुनिया भर में 16,000 से अधिक लोग मारे गए हैं। संक्रमित लोगों के लगभग दो लाख मामले यूरोपीय देशों के हैं। भारत में कोरोनोवायरस रोगियों की संख्या भी 500 को पार कर गई है। वहीं, मरने वालों की संख्या 11 हो गई है।

भारत में कोरोनावायरस: एमपी में चार नए कोविद -19 मामले कुल 570 की संख्या में हैं

0Shares

Author: bhojpurtoday1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *